जाइलम तथा फ्लोएम में पदार्थो के वहन में क्या अंतर है ?



प्रश्न :- जाइलम तथा फ्लोएम में पदार्थो के वहन में क्या अंतर है ?


जाइलम
1). जाइलम जड़ से पत्तियों तथा अन्य भागो में जल तथा घुले लवण परिवहित करते है |
2). जाइलम में पदार्थ का परिवहन वाहिकाओं तथा वाहिनियों द्वारा होता है , जो मृत उतक है |
3). वास्पोत्सर्जन पुल के कारण ऊपर की ओर जल तथा घुले लवणों का चढना संभव हो पाता है | यह पत्ती की कोशिकाओं से जल अणुओं के वास्पीकरण से उत्पन्न खिंचाव के कारण होता है  |
4). जल का परिवहन सरल भौतिक गति के अंतर्गत होता है | उर्जा खर्च नहीं होता है | ATP की आवश्यकता नहीं है |

फ्लोएम
1). फ्लोएम , भोजन पदार्थो के घुली अवस्था में पत्तियों से पादप के दुसरे हिस्सों तक परिवहित करता है |
2). फ्लोएम में पदार्थो का परिवहन चालनी ट्यूबो द्वारा सहचर कोशिकाओं की मदद से होता है , जो जैव कोशिकाए हैं |
3). स्थानांतरण में, पदार्थ फ्लोएम उतक में ATP उर्जा का इस्तेमाल करते हुए होता है |यह परासरण दाब बढ़ा देता है जो फ्लोएम से पदार्थो को उतकों की ओर भेजता है , जिनमे दाब कम होता है |
4). फ्लोएम में स्थानांतरण एक सक्रिय क्रिया है तथा इसमें उर्जा की आवश्यकता होती है |यह उर्जा ATP से प्राप्त होती है |



इन्हें भी देखें -





Previous Post Next Post