परागण क्रिया एवम निषेचन क्रिया एक दुसरे से किस प्रकार भिन्न है ?




परागण क्रिया
1). वह क्रिया जिसमे परागकण स्त्रीकेसर के वर्तिकाग्र तक पहुँचते हैं परागण कहलाते है |
2). यह जनन क्रिया का प्रथम चरण है |
3). परागण क्रिया दो प्रकार की होती है - स्व परागण और पर परागण

निषेचन क्रिया
1). वह क्रिया जिसमे नर युग्मक और मादा युग्मक मिलकर युग्मनज बनाते हैं , निषेचन कहलाती है |
2). यह जनन क्रिया का दूसरा चरण है |
3). निषेचन क्रिया भी दो प्रकार की है - ब्राह्म निषेचन एवम आतंरिक निषेचन |


इन्हें भी देखे :-
👉 रजोदर्शन एवम रजोनिवृति में अन्तर लिखे
👉 फुफ्फुस में कुपिकाए एवम वृक में वृकाणु में अंतर लिखे
👉 वास्तविक प्रतिबिम्ब एवम आभासी प्रतिबिम्ब में अंतर लिखे